अरविन्द केजरीवाल की Biography असली कहानी हिंदी में जानिए ?

ARVIND KEJRIWAL KI BIOGRAPHY KAHANI IN HINDI अरविन्द  केजरीवाल की बायोग्राफी सफलता की कहानी इन हिंदी  


हेलो दोस्तों में मुज्जु मुज्जु इनफॉर्मर
आज में आपको C.M अरविन्द केजरीवाल की सफलता की बायोग्राफी कहानी के बारे  बताऊँगा जो अपनी मेहनत और ईमानदारी से आज दिल्ली के मुख मंत्री बने है चलिए शुरू करते है जानेंगे हमारे अरविन्द केजरीवाल की सफलता की बायोग्राफी  कहानी हिंदी में आप अंत तक पूरी कहानी पढ़े जिससे आप भी दिल्ली के C.M अरविन्द केजरीवाल की तरह लाइफ में कुछ बड़ा करना चाहते है। 

Arvind kejriwal ki biography story kahani in hindi kahani hindi biography

अरविन्द केजरीवाल की सफलता की कहानी इन हिंदी ARVIND KEJRIWAL BIOGRAPHY IN HINDI KAHANI .


अरविन्द केजरीवाल हरयाणा के एक छोटे गाऊ में 16 अगस्त 1968 में पैदा जनम हुवे थे और अरविन्द केजरीवाल जब पैदा हुवे थे वो जनमास्तिमि का दिन था और अरविन्द केजरीवाल जब पैदा हुवे थे उस दिन उनके घर में सब लोग ये समझ कर खुसी माना रहे थे के उनके घर में एक कृष्ण पैदा हुवे है ,

केजरीवाल एक बोहत गरीब फॅमिली से बिलोंग करते थे और गोविन्द राम और गीता देवी के 3 बच्चो में से सबसे बड़े थे और अरविन्द केजरीवाल के पिता गोविन्द राम एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे और उनकी माँ घर में सबकी देख भाल करती थी और KEJRIWAL के पिता को नौकरी काम के लिए एक जगह से दूसरे जगह जाना पढ़ता था जिससे उनको हर बार काम के कारन एक जगह से दूसरे जगह घर शिफ्ट करना पढ़ता था ,

अरविन्द केजरीवाल ने अपनी पढ़ाई सोनीपत के कृष्ण मिशनरी स्कूल से साइंस 12 क्लास कम्पलीट करने के बाद केजरीवाल ने तय करलिया के उन्हें भी अपने पिता के तरह इंजीनियर करेंगे और बोहत मेहनत के साथ अरविन्द केजरीवाल ने I I T पढ़ाई शुरू करदी और पुरे एक साल तक अरविन्द केजरीवाल ने बोहत मेहनत से पढ़ाई शुरू करदी और जब एग्जाम का रिजल्ट आया तो ना केवल केजरीवाल ने ये एग्जाम पास किया और देश भर में अरविन्द केजरीवाल ने 500 नंबर पर रैंक हासिल की ,

अरविन्द केजरीवाल के घर वाले बताते है के उन्होंने इतनी मेहनत की के पढ़ाई के अलावा काम नहीं करते थे और मनन लगाकर पढ़ाई करते थे ,और उससकेबाद आयी आयी टी का एग्जाम कम्पलीट करने के बाद खड़कपुर में अरविन्द केजरीवाल का एडमिशन होगया था। 

आयी आयी टी खड़कपुर से बोहत अच्छे अच्छे स्टूडेंट पास होके निकले है और यहाँ से गूगल के सूंदर पिचाई भी पास होके निकले है और केजरीवाल ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग पूरी पढ़ाई कम्पलीट करने के बाद केजरीवाल को एक टाटा कंपनी में जॉब मिलगई और 1989 में केजरीवाल ने tcm कंपनी में जॉब करनी शुरू करदी और जॉब करते करते अरविन्द केजरीवाल ने समाज और सोशल वर्किंग में धयान बढ़ने लगा और इसी वजह से अपने जॉब से कुछ दिन के लिए छुट्टी ली और कोलकत्ता जाकर कुछ दिन मदर टेरेसा से मिलकर काम किया और उससकेबाद अरविन्द केजरीवाल के अंदर बोहत हौसला बढ़ा और लोगो के बारे में सोंचने लगे थे और यही से अरविन्द केजरीवाल की विचार धारा पूरी बदल गयी थी और उन्होंने वापस जाकर tcs कंपनी में जॉब छोड़ दिया था और सिविल सर्विसेज एग्जामिनेशन परीक्षा की तयारी करने लगे थे क्यों के वो जानते थे देश की ज़्यादा से ज़्यादा जनता का सेवा करने का यही सबसे अच्छा मौक़ा है। 


इस्सके बाद अरविन्द केजरीवाल ने देश के ही नहीं बल्कि पुरे देश के सबसे मुश्किल एग्जाम परीक्षा देने के लिए रेडी होगये थे और सिविल सर्विसेज की एग्जाम परीक्षा की तयारी करनी शुरू करदी थी और अंत में अरविन्द केजरीवाल की मेहनत रंग लायी और अरविन्द केजरीवाल ने इस एग्जाम में कॉलिफिई करलिया था और उससकेबाद अरविन्द केजरीवाल ने IRS में जॉब करनी शुरू करदी और उससकेबाद उनको सब सच्चई पता चला के दुनिआ में बोहत ज़्यादा लोग गलत काम कररहे और करप्शन कररहे है ,और कुछ दिन यहाँ पर काम करने के बाद अरविन्द केजरीवाल अपने दोस्त मनीष से मिले और कुछ और दोस्तों के साथ मिलकर मूवमेंट की शुरुवात करि और जिसको नाम दिया गया परिवर्तन ,


परिवर्तन के जरिये दिल्ली के कुछ इलाक़ो में रह रही आम जनता की जो सर्कार गवर्नमेंट से जुड़ी हुवी समस्या की समाधान निकाल रही थी जैसे इनकम टैक्स और पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन और एलेक्ट्री सिटी और जब केजरीवाल को इन कामो में ज़्यादा धयान लगने लगा तो उन्होंने वर्ष 2000 में अपने ऑफिस से एक से दो साल के लिए छुट्टी लेली और केजरीवाल ने इन 2 साल में अपने दोस्त मनीष से मिलकर दिल्ली के जनता समाज के लिए बोहत ज़्यादा काम किये और 2 साल के छुट्टी के बाद वो वापस आये और अरविन्द केजरीवाल सोशल वर्किंग के कामो में ज़्यादा बिजी होने के कारन उन्होंने 2006 में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में कमिशनर के पोजीशन को छोड़ दिए ,और उससकेबाद अरविन्द केजरीवाल पूरी तरह परिवर्तन और NGO के लिए काम करना शुरू करदिया। 


अरविन्द केजरीवाल को कंप्यूटर सिस्टम की बोहत अच्छी नॉलेज होने के कारन अब केजरीवाल जान गए थे कहा और किस जगह किस तरह काम कराया जासकता है , और उन्होंने RIGHT TO INFORMATION का इस्तेमाल करके केजरीवाल ने सब जनता लोगो का काम कराये और इसी तरह लोगो और जनता के लिए लड़ते रहे और बिना रिस्वत खाये लोगो के केलिए आगे बढ़ बढ़ कर सेवा करते रहे। 


2011 में कांग्रेस में कई तरह करके लोग घोटाले कररहे थे और 2011 में केजरीवाल और अण्णा हजारे मिलकर इंडिया अगेंस्ट करप्शन को सामने लाये और इसी तरह अच्छे काम करके केजरीवाल के साथ हजारो लाखो लाग जुड़ गए और इसीकी वजह से लोग केजरीवाल को जानने लगे और बाद में केजरीवाल को बोहत अच्छे लोग भी मिले और साथ में बुरे लोग भी जिस्मे बुरे लोग बोलने लगे केजरीवाल को के बहार रहके लोग कुछ भी बोलते है इस्सलिये सर्कार राजनीती में आके बोलिये जो बोलना है,
और ये सब अरविन्द केजरीवाल सुनने के बाद तय करलिया लगता है अब मुझे राजनीती में उतरना ही पड़ेगा और राजनीती में आके ही सिस्टम को ठीक करेंगे। 


अरविन्द केजरीवाल आम आदमी पार्टी को शुरू किया और इलेक्शन में दिल्ली के मुख्य मंत्री उमीदवार बनकर आगे आये और दिल्ली की जनता को अरविन्द केजरीवाल और आम आदमी पार्टी में एक बोहत बड़ी उम्मीद नजर आरही थी और इस्सलिये पहले इलेक्शन में ही दिल्ली की जनता ने अरविन्द केजरीवाल को 70 में से 31 सीट दिलाई और उससकेबाद अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के चीफ मिनिस्टर बने और केजरीवाल ने उस पद पर रह कर जनता के लिए बोहत अच्छा काम करना शुरू करदिया। 


अरविन्द केजरीवाल को पहली बार इतने बड़े पद पर काम कर रहे थे मगर अरविन्द केजरीवाल ने जो बड़े लेवल में करने की सोंच रहे थे लेकिन वो नहीं कर पाए और उनको सेंट्रल गवर्नमेंट से ज़्यादा लिबर्टी ना मिलने के कारन वो ज़्यादा कुछ नहीं कर पा रहे थे देश के लिए जिस्सके कारन वो चीफ मिनिस्टर से 2014 को इस्तीफ़ा देदिया और उससकेबाद 2015 में दिल्ली में फिर से इलेक्शन हुवे लेकिन इस बार केजरीवाल को आम आदमी पार्टी ने वापसी करि और जहा वो पिछले इलेक्शन में सिर्फ 70 में से 31 वोट जीते थे लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी अरविन्द केजरीवाल ने इलेक्शन में 70 में से 67 सीट जीती थी और इस के बाद आम आदमी पार्टी अरविन्द केजरीवाल मुख्य मंत्री बने और इस्सके बाद से ही इन्होने कभी भी पीछे मूढ़ कर नहीं देखा और देश के लिए  अच्छी अच्छी सुविधाएं करने लगे और जनता और बच्चो के लिए स्कूल खोले और लेडीज के लिए बस फ्री किये है और देश और जनता के लिए बोहत अच्छा अच्छा काम किये है। 

और आज 2020 में भी अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के चीफ मिनिस्टर बने हुवे है और लोग जानते है अरविन्द केजरीवाल पर लोग और जनता बोहत भरोषा करते है इसी वजह से अभी तक अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के चीफ मिनिस्टर है और आगे जाके अरविन्द केजरीवाल ने सुनीता केजरीवाल से शादी कर्ली और इनदोनो के दो बच्चे भी है, दोस्तों ये थी दिल्ली के चीफ मिनिस्टर अरविन्द केजरीवाल की कहानी बायोग्राफी मुझे उम्मीद है आपको ये कहानी बोहत अच्छी लगी होगी मिलते है अगले बेहतरीन हिंदी बायोग्राफी में। 


थैंक्स फॉर वाचिंग ऐसे ही अन्य शानदार हिंदी कहानी और हिंदी बायोग्राफी देखने के लिए आप हमारे मुज्जु इनफॉर्मर के कैटेगरी में जाकर फुल कहानी पढ़ सकते है www.Mujjuinformer.com 



SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment